SEO क्या है और कैसे काम करता है? [ SEO Kya Hai Aur Kaise Kaam Karta Hai? ]

SEO क्या है और यह कैसे काम करता है? यह सवाल आपके दिमाग में कभी न कभी जरूर आया होगा। और आप उसका उत्तर जानना चाहते होंगे। तो चलिए कोई बात नही, क्योंकि आज का हमारा यह पोस्ट इसी विषय पर है। दोस्तों  "SEO क्या है" और यह कैसे काम करता है, इसको मैं आपको कम से कम शब्दों में बेहतर से बेहतरीन समझाने का प्रयास करूँगा, तो चलिए शुरू करते है।

SEO क्या है ( What is SEO in Hindi )

SEO kya hai aur kaise kaam karta hai?

दोस्तों इन्टरनेट मार्केटिंग की दुनिया मेंं एसइओ का काफी महत्वपूर्ण स्थान है, एसइओ का अर्थ "search engine optimisation" है किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग की सफलता के लिए एसइओ एक महत्वपूर्ण पहलू है। आज एसइओ के बिना किसी भी वेबसाइट या ब्लॉग का पाॅपुलर होना लगभग नामुमकिन होता है। इसे अपनाकर बड़ी-बड़ी इ- कॉमर्स कंपनिया दुनिया भर में छा जाती है। दरअसल इसका सीधा-सा मतलब है कि अपनी वेबसाइट या पोस्ट मे इस प्रकार सुुुुधार करना की वेबसाइट या पोस्ट सर्च इंजन के पहले पेजों पर दिखने लगे। इस तकनीक के जरिए वेबसाइट को "keyword friendly" बनाना होता है।

SEO कैसे काम करता है ( How to work this )

SEO kya hai aur kaise kaam karta hai?

सर्च इंजन में विभिन्न कीवर्ड सर्च के जरिए ही ज्यादा से ज्यादा लोग किसी भी वेबसाइट तक पहुंचते है। यानी कि किसी भी वेबसाइट के ट्रैफिक का मेन सोर्स सर्च इंजन जैसे गूगल, याहू आदि होते है। हालांकि आजकल की वेबसाइट शोसल मिडिया के जरिए भी ट्रैफिक बढ़ाने का काम करती है। दरअसल, जब आप गूगल पर कुछ सर्च करते है, तो इन्टरनेट पर मौजूद अनगिनत वेबपेज मे से सबसे अच्छे वेबपेज को आपके लिए उपलब्ध कराना सर्च इंजन का मेन काम होता है। इस काम को करने के लिए सर्च इंजन मे बोट्स या साफ्टवेयर लगे होते है, जो विभिन्न बातों या नियमों को ध्यान में रखकर सर्च किये गये शब्दों से सम्बन्धित सबसे अच्छे वेबपेज को सर्च इंजन के पहले पेज पर प्रदर्शित करते है। किसी भी वेबसाइट को सर्च इंजन के पहले पेज पर प्रदर्शित होना कई बातों पर निर्भर करता है, जैसे वेबसाइट की डिजाइन, पोस्ट की गुणवत्ता, पोस्ट का सर्च किये गये कीवर्ड से सम्बंध, लोगों द्वारा वेबसाइट को पसन्द किया जाना या ज्यादा से ज्यादा वेबसाइट पर समय बिताना, पोस्ट को प्रदर्शित करने का तरीका, बैक लिंक्स आदि कई बहुत सारे कारण है। इन्हीं सारी बातों को ध्यान में रखकर वेबसाइट या पोस्ट मे सुधार या बदलाव करना ही "एसइओ" कहलाता है।

तो दोस्तों मुझे विश्वास है कि इस पोस्ट के माध्यम से "एसइओ" के बारे मे आपको कुछ न कुछ जानकारी मिली होगी।

0 comments:

Post a Comment